35 Rona Shayari

Rona Shayari

1- वो तो आता नहीं कभी मगर आलम ये है की रोना बहुत आता है।

Rona Shayari

2- वाकिए तो हाल-फिलहाल बस यही होते रहते हैं, बहार से मुस्कुराते रहते हैं अंदर ही अंदर रोते रहते हैं।

Rona Shayari

3- पाता कुछ भी नहीं खोता बहुत है, एक आशिक़ सच्ची वफ़ा में रोता बहुत है।

Rona Shayari

4- आंसू आते हैं तो उसे पसीना बता कर टाल दिया करते हैं, कुछ ऐसे करके हम अपने दर्द निकाल लिया करते हैं।

Rona Shayari

5- एक वो है जो आकर गले से लगता नहीं, एक मायूसी है जो गले पड़े रहती है।

Rona Shayari

6- किसी ने सच ही कहा है आँखें झूठ नहीं कहती है, खुशियों में हसती है दुःख में बहती है।

Rona Shayari

7- तुझे जाने से तो रोक ना सके, मगर आंसुओं को हम बखूबी रोक लेते हैं।

Rona Shayari

8- कुछ इसलिए भी अब नहीं रोते की रोने से तुम मेरे तो नहीं हो जाओगे ना।

Rona Shayari

9- हम बस यूँ ही रोते रहे, वो यूँ ही किसी और के होते रहे।

Rona Shayari

10- तेरा कन्धा नहीं है अब मगर खूब रोते है दीवारों से लिपटकर।

11- कभी रो देते हैं तो कभी मुस्कुरा देते हैं तेरा नाम लेकर, जी रहे हैं ज़िन्दगी दर्द सीने में तमाम लेकर।\

12- इन आँखों के आशियाने में बरसात ही क्यों रहती है, ये जहन्नुम सी ज़िन्दगी बर्बाद ही क्यों रहती है।

13- जिनकी क़िस्मत में लिखा होता है रोना, उनके ख़ुशी में भी आंसू निकल आते हैं।

14- हर रात में रोते हैं हर बात पे रोते होते हैं, हम वो तो नहीं बदकिस्मती से जो हर रात में सोते हैं।

Rona Shayari

15- कमबख ये रोना भी उसी के लिए आता है, जो कभी चुप करने नहीं आएगा।

16- मुस्कुराने को तो साथी कई मिलते हैं, मगर अकेला पाते हैं खुद को जब भी रोना आता है।

17- आँखों ने छोड़ दी आखिरकार रोने की आदत, मगर ये दिल आज भी गम में डूबा रहता है।

18- एक यार चाहिए मुझे मेरी नज़रों सा, की दिल अगर मेरा दुखे तो आँखें उसकी भी भीगे।

Rona Shayari

19- सभी को सभा में हसाने वाले, अकेले में बेहिसाब रोया करते हैं जनाब।

20- किसी के सामने हम यूँ करके भी नहीं रोते, की कोई आंसू पोंछ तो सकता है मगर चुप नहीं करा सकता हमे।

21- खुशियों में साथ मुस्कुराने का नाटक तो सारा ज़माना करता है, मगर गम तो अकेले ही दबाना पड़ता है।

22- हालातों की दुनिया दोनों के लिए कुछ एक सी बन गई, उसका दिल भर गया और मेरी आँखें भर गई।

23- यूँ ही तो नहीं रोता कोई मोहोब्बत में, किसी एक का दिल भरता है तभी दुसरे की आँखें भर जाती है।

24- वो इस कदर ओझल हुआ ज़िन्दगी से की आँखों को भी कानों-कान खबर नहीं हुई।

Rona Shayari

25- मोहोब्बत का जो मेरी खून हो गया, तो फिर क्या था खून के आंसू रोए हम।

Rona Shayari 2 Lines

26- वो रोना बंद कर देते हैं हमेशा के लिए, जिनके पास कभी कोई चुप कराने के लिए होता ही नहीं।

27- आंसुओं को इतनी मोहोब्बत हो गई है हमसे, की कोई आए ना आए रोना आ ही जाता है।

28- हसते है वही आज हालातों पर हमारे, जिनकी वजह से हमारी ये हालत हुई है।

29- एक रात नहीं जो नींद आ जाए मगर हर रात इन आँखों को रोना आ जाता है।

30- आंसुओं ने निकलते निकलते बस इतना सा कहा की उसके चले जाने से हमे क्यों निकाल रहे हो।

31- देखा तो था आईने में नज़रों से नज़रों को कई दफा, मगर इसमें इतने आंसू होंगे ये मालूम न था।

Rona Shayari

32- पहले मुझे रोना नहीं आता था, तेरी जुदाई ने मुझे ये हुनर भी सीखा दिया।

33- ज़माने में सारे ज़माने को हसाने वाले अक्सर अकेले में फूट-फूट कर रोया करते हैं।

34- मेरी नज़रे जैसे घड़ा हो कोई, फूट-फूट कर अब ये रोया करती है।

35- देर रात तेरी याद, गीले तकिए गीली आँख।

About The Author

Reply